IAS IPS kaise bante hai / ias ips rank kaise डिसाइड होती है 

IAS IPS kaise bante hai / ias ips rank kaise डिसाइड होती है 

IAS IPS kaise bante hai  क्या आप जानना चाहते हैं कि आईएएस और आईपीएस कि रैंक किस प्रकार डिसाइड की जाती है और कैसे आईएएस या आईपीएस ऑफिसर बना जाता है और भारत में प्रतिवर्ष कितने लोग आईएएस या आईपीएस बनते हैं और इसके लिए आपको क्या करना होगा अगर आपके मन में यह सारे सवाल है तो आप इस आर्टिकल को लास्ट तक पड़े क्योंकि हम हमारे इस आर्टिकल में आपको आईपीएस और आईएएस की रैंक को विस्तार से बताएंगे कि किस प्रकार इनकी रैंक डिसाइड की जाती है

 

upsc क्या है

हर साल भारत सरकार द्वारा यूपीएससी एग्जाम लिया जाता है और इस upsc  एग्जाम को हम सिविल सर्विसेज एग्जाम भी कहते हैं यह हर साल भारत में आयोजित किया जाता है इसका आयोजन केंद्र सरकार द्वारा किया जाता है इस यूपीएससी में पास होने वाले स्टूडेंट की आगे जाकर आईएएस और आईपीएस बनते हैं लेकिन यह सभी लोग इस पोस्ट पर नहीं पहुंच पाते इनके लिए इनकी रैंक डिसाइड की जाती है और उसी रैंक के हिसाब से कुछ आईपीएस बनते हैं कुछ आईएएस बनते हैं और इसके अलावा भी कई सारे पद होते हैं जो इनको मिलते हैं

यूपीएससी आसान भाषा में

रैंकिंग समझने से पहले यूपीएससी को समझ लें क्योंकि यूपीएससी के द्वारा आईएएस आईपीएस के अलावा 24 प्रकार की जॉब आपको मिलती हैं और जिनके लिए यूपीएससी क्लियर करने वाले कैंडिडेट का सिलेक्शन होता है

 प्रीलिमिनरी एग्जाम

प्रीलिमिनरी एग्जाम इसमें आपको दो पेपर देने होते हैं और दोनों पेपर दो 2 घंटे के होते हैं जिनमें कटऑफ रहता है आपको  इस एग्जाम को निकालने के लिए कटऑफ लाना होता है पहले पेपर में मेन एग्जाम लिखते हैं जबकि दूसरे पेपर में csat क्वालीफाइंग पेपर होता है और आपको इसमें पास होने के लिए 33% नंबर लाना होता है अगर आपका पेपर 200 नंबर का है तो इसमें आपको 67 नंबर लाना होगा आपको इन दोनों पेपर को कट ऑफ लाना जरूरी होता है अगर आप इन दोनों में कटऑफ नहीं लाते तो आप मेन्स एग्जाम के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाएंगे और इन दोनों में ही आपको कटऑफ लाना होता है अगर आप एक निकाल लेते हैं और एक मैं कटऑफ नहीं ला पाते तो आप अगले एग्जाम के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाते

मेंस एग्जाम

जब आवेदन करता उस एग्जाम को क्लियर कर लेते हैं इसके बाद आपको देना होता है मेंस एग्जाम और मैंस एग्जाम में आपको लिखना होता है और इस एग्जाम में आपको सब कुछ लिखित में देना होता है मतलब कि यह पेपर ऑब्जेक्टिव नहीं होता है इसमें बेसिक लिखना होता है

इसमें भी आपको दो पेपर देने होते हैं और दोनों पेपर में आपको कटऑफ यानी कि 33 परसेंट नंबर लाना जरूरी होता है हालांकि यह वाले नंबर आपके मैरिज लिस्ट वाले में काउंट किसी भी प्रकार से नहीं किए जाते यह पेपर तीन-तीन घंटे के होते हैं जिनमें से  इंडियन रीजनल लैंग्वेज और दूसरा इंग्लिश में होता है

जब यह पेपर हो जाते हैं इसके बाद आता है जनरल स्टडीज पेपर और इसमें 4 पेपर होते हैं और सभी पेपर तीन 3 घंटे के होते हैं और इन पेपर में 1 दिन में दो से ज्यादा पेपर नहीं हो  सकते उसी हिसाब से इनका टाइम टेबल तय किया जाता है

इसके बाद आता है ऑप्शनल पेपर और इसमें आपको दो पेपर देने होते हैं जो आप के चुने हुए सब्जेक्ट में होते हैं इनको वैकल्पिक विषय कहा जाता है और लैंग्वेज पेपर को छोड़कर बाकी सभी पेपर्स के नंबर आप की मेरिट लिस्ट में जोड़े जाते हैं

अगर सीधे शब्दों में बात की जाए तो यह पेपर सब मिलाकर 27 घंटे के होते हैं और यह 5 से 7 दिन के बीच करवाए जाते हैं

ias ips की रैंकिंग कैसे तय होती है

उस  साल की निकली वैकेंसी के ऊपर करता है कि उस वर्ष आपने पेपर दिया है उस वर्ष कितनी वैकेंसी निकली है और यह सब के लिए अलग होती हैं यानी कि SC,ST,OBC, EWS  के लिए अलग-अलग कैटेगरी होती हैं और आप जब यह सब एग्जाम क्लियर कर लेते हैं तो उसके बाद मैन एग्जाम का फॉर्म भरते समय आपकी पहली पसंद पूछी जाती है जिसमें कोई आईएएस आईपीएस या आईएफएस मेरिट लिस्ट निकलती है और इसी हिसाब से जिनके सबसे ज्यादा नंबर होते हैं उन्हें आईएएस और आईपीएस की पोस्ट दी जाती हैं

जैसे कि 2021 में जो पोस्ट खाली है अब टॉप 100 में आने वाले लोगों ने अपने प्रेफरेंस में आईएएस आईपीएस  उन को प्राथमिकता दी जाएगी जरूरी नहीं है कि 120 नंबर पर आने वाला कोई आईएस नहीं बन सकता क्योंकि हो सकता है top 100 में आने वाले लोगों में से 50 ने आईएएस चुना जबकि 50 आईपीएस बनना चाहते हैं और आईएस की पोस्ट खाली है तो इसके बाद 100  के बाद जितने भी लोग आईएएस बनेंगे उन सबको आईएएस की पोस्ट दी जाएगी

रैंकिंग पाना इतना मुश्किल क्यों होता है

रैंकिंग पाना कठिन इसलिए होता है क्योंकि जब 2005 में एग्जाम होते थे उस समय इनमें 457 वैकेंसी हुआ करती थी और आज 2020 में इनकी संख्या 1500 के पार पहुंची है लेकिन यूपीएससी एग्जाम देने वालों की संख्या में काफी तेजी से बढ़ोतरी हुई है जबकि इनमें मिलने वाले पद कुछ खास नहीं बड़े इसलिए इनमे रैंक पाना काफी मुश्किल होता है क्योंकि बहुत सारे लोग तो शुरुआती एग्जाम में ही फेल हो जाते हैं लेकिन बहुत लोग ऐसे होते हैं जो मेंस भी क्लियर कर लेते हैं फिर आता है इंटरव्यू और उसी के हिसाब से सिलेक्शन होता इसीलिए इसमें रिंग पाना थोड़ा कठिन है क्योंकि इसमें बहुत ज्यादा कंपटीशन रहता है

IAS IPS kaise bante hai / आर्टिकल कैसा लगा 

दोस्तों हमने हमारे इस आर्टिकल IAS IPS kaise bante hai में आपको बताया है कि upsc क्या होती है और यूपीएससी में कितनी रैंक होती हैं और इन रैंक का डिसीजन किस प्रकार किया जाता है अगर आपको हमारे द्वारा लिखा आर्टिकल अच्छा लगता है और आपको लगता है कि हम ने दी जानकारी बिल्कुल सही है इससे आपको फायदा हुआ है तो हम आप हमारे इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर करें और हमें कमेंट करके जरूर बताएं कि आपको हमारे द्वारा लिखा आर्टिकल कैसा लगा धन्यवाद

1 thought on “IAS IPS kaise bante hai / ias ips rank kaise डिसाइड होती है ”

Leave a Comment